You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

शुक्रवार, 3 मई 2013

रोने के भी हैं फायदे

जिस तरह आपकी सेहत के लिए हंसने के फायदे ही फायदे हैंउसी तरह थोड़ा बहुत रोने से न सिर्फ आपका दिल हल्का होगा बल्कि आपके स्वास्थ्य को भी फायदा मिलेगा।मनोचिकित्सकों का कहना है कि कभी कभी रो लेने से किसी प्रकार का कोई नुकसान नहीं पहुंचता बल्कि रो लेने से व्यक्ति तनाव रहित व हल्का फुल्का महसूस करता है। आंसू दुःख, चिंता, क्लेश तथा मानसिक तनाव को झेलने में मदद करते हैं। डाक्टरों का कहना है कि रो लेने से मानसिक तनाव में मुक्ति मिलती है इसके साथ ही हाई ब्लड प्रेशर, भगन्दर आदि रोगों से छुटकारा पाने में सहायता मिलती है। तनाव से उत्पन्न होने वाली बीमारियों की भी शिकायत नहीं रहती। रो लेने से हृदय रोग भी कम हो जाता है।रोते समय जब आँखों में आंसू आते हैं तो यह आंसू आँखों में पड़े विजातीय द्रवों को बाहर निकालने का कार्य करते हैं तथा आँखों को नम रखने और उन्हें संक्रमण से बचाने का भी कार्य करते हैं।



मेडिकल युनिवर्सिटी ऑफ ओहियो के शोधकर्ताओं ने आपके आंसुओं के फायदे अपने अध्ययन में भी पाए जिसमें उन्होंने कि रोने के बाद अधिकतर लोग हल्का और तरोताजा महसूस करते हैं। शोध में 88.8 प्रतिशत लोग रोने के बाद हल्का महसूस करते हैं और सिर्फ 8.4 प्रतिशत लोग रोने से दुखी होते हैं।


अगर आप अपने दुख को सीने में छिपाकर रखते हैंतो कभी-दिल खोलकर रोने से गुरेज न करें क्योंकि रोने से ‌न सिर्फ दिल हल्का होगा बल्कि आपकी सेहत को ये फायदे भी मिलेंगे।

बढ़ती है आंखों की रोशनी

आंखों में आंसू आने से आंख की पुतली और पलकों को नमीं मिलती है. वैज्ञानिकों ने यह सिद्ध किया है कि रोने से आँखों की खूबसूरती बढती है।इन वैज्ञानिकों के मतानुसार आँखों के कार्निया की परत कंजकटाईवा को लेक्रिमल ग्रन्थि द्वारा आंसुओं को नम कर देने के कारण, आंसुओं में मिले शारिय तत्वों द्वारा सुन्दरता निखर जाती है। आंसुओं के निकलने पर हारडेरियन ग्रन्थि से एक तैलीय द्रव निकलता है, जिसकी मदद से कार्निया नम और गहरा बन जाता है। स्त्रियों में पुरुषों की अपेक्षा अधिक आंसुओं का उत्पादन होता है इसलिए स्त्रियों की आँखें अधिक खुबसूरत होती हैं। हालांकि बहुत अधिक रोने से भी आंखों की रोशनी जाने का खतरा हो सकता है।

खत्म होते हैं बैक्टीरिया

आंसुओं में लिसोजाइम नामक लिक्विड होता है जो सिर्फ 5-10 मिनटों में 90-95 प्रतिशत बैक्टीरिया का सफाया कर सकता है।

शरीर से निकलते हैं ‌टॉक्सिक

कई शोधों में यह बात मानी गई है कि जब हम बहुत अधिक दुख या अवसाद में होते हैं तो शरीर में कुछ टॉक्सिक केमिकल्स बनने लगते हैं। आंसू के रास्ते से जहरीले तत्व शरीर से बाहर निकल जाते हैं।

मूड ठीक होता है

कई बार शरीर में मैगनीज की अधिकता से घबराहटउलझनथकानगुस्सा जैसी समस्याएं होती हैं। रोने से शरीर में मैगनीज का स्तर कम होता है जिससे आपको हल्का और अच्छा महसूस होता है।

तनाव घटता है
बहुत अधिक तनाव में रोने से थोड़ी राहत मिलती है। रोने की प्रक्रिया के दौरान शरीर में एंडोर्फिनल्यूकाइन-एंकाफालिन और प्रोलैक्टिन नामक तत्वों का स्तर कम होता है जिससे तनाव कम होता है लेकिन बहुत अधिक रोने से इसके उल्टे असर भी हो सकते हैं.

24 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन जानकारी आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. हंसने की चाह ने इतना मुझे रुलाया है
    वाकई रोना भी जरुरी है
    बहुत बढ़िया जानकारी
    बधाई

    आग्रह है
    http://jyoti-khare.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक लाभकारी संग्रहनीय आलेख
    हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. रोचक और उपयोगी जानकर,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही उपयोगी आलेख,शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  6. सार्थक और लाभकारी जानकारी,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  7. रोना एक कला भी है और लाभदायक भी,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वास्थ्यवर्धक और उपयोगी जानकारी दिए,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी हर पोस्ट ही लाभकारी और रोचक होती है जितनी भी तारीफ की जाय कम है,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  10. wah ! fir tho mujhe labh hi labh hai kyuki......rona mera favourite hai :)...
    upyogi jankari

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत रोचक और उपयोगी जानकारी...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत उपयोगी जानकारी मिली, आभार

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. आंसुओं का रसायन और मनो शाश्त्र का बढ़िया लेखा .अद्यतन और असरदार .

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही सुन्‍दर लेख
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका स्वागत है,आपके ब्लॉग पर जाता हूँ बहुत ही बेहतरीन जानकारियां देते हैं.

      हटाएं
  15. वाह ...
    आपकी इस पोस्ट से कुछ तो राहत मिली !
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह ... कितने फायदे हैं रोने से ... और अक्सर पुरुष रोकते रहते हैं रोना ...
    अच्छी पोस्ट ...

    उत्तर देंहटाएं

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।हमारी जानकारी-आपका विचार.आपकी मार्गदर्शन की आवश्यकता है, आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है....आभार !!!