You might also like :

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

सोमवार, 13 मई 2013

कंप्यूटर से हुए थकान से निजात पाएं

आज की खबर :

क्या घंटों तक कंप्यूटर पर टाइप करने या माउस चलाने से आपके हाथों में दर्द होता है? या फिर कई बार देर तक लिखने-पढ़ने के काम से हाथों में जकड़न महसूस होती है?इस बार हम योग टिप्स लाएँ हैं उन लोगों के लिए जो कंप्यूटर पर लगातार आठ से दस घंटे काम करके कई तरह के रोगों का शिकार हो जाते हैं या फिर तनाव व थकान से ग्रस्त रहते हैं। निश्‍चित ही कंप्यूटर पर लगातार आँखे गड़ाए रखने के अपने नुकसान तो हैं ही इसके अलावा भी ऐसी कई छोटी-छोटी समस्याएँ भी पैदा होती है, जिससे हम जाने-अनजाने लड़ते रहते हैं।

अगर ऐसा है तो आप काम के दौरान ही हाथों की इन सात आसान कसरतों से आराम महसूस कर सकते हैं।


कसकर मुट्ठी बांधे

इससे हथेली और उंगलियों की जकड़न खुलेगी और हाथों में दर्द नहीं होगा।

अंगूठे को भीतर करके मुट्ठी बनाएं।

मुट्ठी को 30 से 60 सेकंड के लिए टाइट करें।
पूरी तरह हाथ को ढीला छोड़ दें।
लगातार चार बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

उंगलियों का फैलाएं
लगातार टाइप करने या माउस पकड़ने से उंगलियों के दर्द में आराम मिलेगा।
हथेली को सीधा टेबल पर रखें।
अब हाथों की उंगलियों पर थोड़ा बल देते हुए उंगलियों को स्ट्रेच करें।
करीब 30 से 60 सेकंड तक इसी अवस्था में रखें।
हाथ को ढीला छोड़ दें।
लगातार चार बार इस प्रक्रिया को दोहराएं।

हथेली को फैलाएं
इससे हथेली की मांसपेशियों का तनाव कम होगा और उंगलियां तेजी से चलेंगी।
दोनों हाथों को सीधा करें और हथेली को मुंह के सामने सीधा रखें।
अब उंगलियों को ज्वाइंट से हथेली की ओर मोड़ें।
हथेली अधखुली मुट्ठी की तरह दिखनी चाहिए।
30 से 60 सेकंड इसी अवस्था में रहें।
इस प्रक्रिया को लगातार चार बार दोहराएं।

पकड़ बनाएं
हथेली की पकड़ मजबूत करने और स्ट्रेच के लिए सॉफ्ट बॉल मिलती है। उसे हमेशा अपनी डेस्क पर रखें।
सॉफ्ट बॉल को अच्छी तरह से पकड़ें और दम लगाकर निचोड़ने का प्रयास करें।
10 से 15 सेकंड तक इस अवस्था में रहें।
इसे आठ से 10 बार दोहराएं।
सप्ताह में दो से तीन बार इस कसरत को करने से हाथों के ज्वाइंट्स खुल जाते हैं।
उंगलियों को उठाएं
इससे उंगलियों की लचक बढ़ती है और देर तक कान के बावजूद भी दर्द नहीं होता।

हथेली को टेबल पर सीधा रखें।
अब पहली इंगली को टेबल से ऊपर उठाएं और कुछ क्षण बाद नीचे रखें।
बारी-बारी सभी उंगलियों के साथ यह प्रक्रिया दोहराएं।
आठ से 12 बार इस पूरी प्रक्रिया को दोहराएं।

अंगूठे के लिए
इससे अंगूठे की मांसपेशियां मजबूत होंगी और लचीलापन बढ़ेगा।
हाथ को टेबल पर सीधा रखें और अपनी चारों उंगलियों को हल्के रबर बैंड से बांध लें।
अब अंगूठे को 30 से 60 सेकंड तक उंगलियों से दूर खींचें।
इस प्रक्रिया को 10 से 15 बार करें।
सप्ताह में तीन दिन भी यह कसरत फायदेमंद है।

विशेषज्ञों ने कहा है कि आंखों की पलझें झपकाने और बीस फिट की दूरी पर रखी वस्तु की ओर देखने से इस दर्द से बचा जा सकता है। बस 20-20-20 के फ़ार्मूले का पालन करना होगा अर्थात बीस मिनट बाद बीस फ़िट दूर बीस सेकेंड तक देखें।

कुछ और जानकारी के लिए (यहाँ क्लिक करें)

18 टिप्‍पणियां:

  1. बेहतरीन टिप्स दिए,आपका आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज्यादा देर कंप्यूटर पर काम करने पर थकान हो ही जाती है,बेहतरीन टिप्स दिए इससे निजात पाने का.

    उत्तर देंहटाएं
  3. थकान से उबरने के बेहतरीन टिप्स,शुक्रिया.

    उत्तर देंहटाएं
  4. उपयोगी टिप्स अच्छी जानकारी के लिए धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. behad upyogi sujhav , aank ke liye kuch sujhav dene ka kasht kijiye, sadar

    उत्तर देंहटाएं
  6. upyogi prastuti ,netra(aankh) ke liye bhi kuch tips sujhaye ,sadar

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपका सुझाव नोट कर लिया है आगे के कुछ दिनों में इस लिखूंगा.

      हटाएं
  7. aap hamesha bahut labhdayak jankari dete.....shukriya apka

    उत्तर देंहटाएं
  8. ब्लागरों के लिए तो रामबाण उपाय हैं ये, आभार.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहतरीन टिप्स,आपका आभार राजेन्द्र जी।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी और लाभकारी जानकारी....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया स्‍वास्‍थ्‍य सूचनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  12. अजी हम तो रोज अंग्रेजी अखाड़े (जिम) में उठा-पटक कर आते हैं, इसलिए ऐसी समस्या से मुक्त रहते हैं.फिर आपके सुझाव अच्छे हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत उपयोगी टिप्स...आभार

    उत्तर देंहटाएं

इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।हमारी जानकारी-आपका विचार.आपकी मार्गदर्शन की आवश्यकता है, आपकी टिप्पणियाँ उत्साहवर्धन करती है....आभार !!!